f

Get in on this viral marvel and start spreading that buzz! Buzzy was made for all up and coming modern publishers & magazines!

Fb. In. Tw. Be.

स्ट्रीट डॉग पैरंट‌ बनना इतना भी आसान नहीं

पिछले कुछ सालों में स्ट्रीट डाॅग्स को गोद लेने का चलन बढ़ा है। लेकिन इनको विदेशी ब्रीड्स के पेट डॉग से ज्यादा केयर की जरूरत होती है। ऐसे में हम आपको दे रहे हैं कुछ काम की जानकारी।

सड़कों पर आवारा कुत्तों को देखकर यह अंदाजा लगाना बेहद मुश्किल है कि वह कितने डर के साये में जीते हैं। ऐसे में अगर आप उन्हें अपने साथ लाकर अपना बनाने का फैसला लेते हैं, तो यह काम आसान नहीं होने वाला है। इसके लिए आपको रखना होगा धैर्य और उन्हें भी देना होगा वक्त।


सही देखभाल है जरूरी
जानवरों के लिए काम करने वाली ज्यादातर संस्थाओं का एक आम स्लोगन होता है कि डॉगी को खरीदें नहीं, बल्कि गोद लें। लेकिन आपको कोई यह नहीं बताता कि किसी बेघर कुत्ते को गोद लेना या उसकी देखभाल करना किसी दुकान से खरीदे गए पपी की केयर करने से बिल्कुल अलग होता है। कई लोग बेघर कुत्तों को अपने घर में पनाह तो दे देते हैं, लेकिन उनकी देखभाल की तरफ ज्यादा ध्यान नहीं देते। ऐसे में आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण कार्य उनकी केयर करना होना चाहिए, जिसकी ऐसे डॉगीज को सबसे ज्यादा जरूरत होती है।


सेहत पर दें ध्यान
सबसे पहले ऐसे जानवर की सेहत पर ध्यान देना होता है। अगर आपको लगता है कि कुत्ते को कोई शारीरिक समस्या है, तो ऐसे में आपको उसे डॉक्टर के पास ले जाना चाहिए। इसके बाद घर आने से पहले किसी पेट ग्रूमिंग पार्लर का एक सेशन जॉइन करना चाहिए। ऐसे में जब आप उसको घर वापस लेकर आएंगे, तो उसके लिए आपके घर के वातावरण में रहना आसान हो जाएगा और आपके और डॉगी के बीच में एक कैमिस्ट्री बननी शुरू हो जाएगी। ऐसे में आपको डॉगी के लिए कोई जगह बनाने में मदद मिलेगी। वह अपने बेड, खिलौने और बॉउल को पहचानने लगेगा।


व्यायाम से सेहत में आएगा सुधार
हेल्दी रूटीन, मानसिक व शारीरिक व्यायाम और उसके साथ ज्यादा समय बिताना ही ऐसे डॉग्स की लाइफ को बेहतर बना सकता है। आप दृढ़ता और धैर्य के साथ एक बेघर कुत्ते के जीवन को बदल सकते हैं। ऐसे में आपको वादा करना होगा, जो सही मायने में एक सही और सराहनीय कदम होगा।


समय देना जरूरी
बेघर डॉगी लगातार डर के साये में जीते हैं। इस वजह से वह कई बार खुद को फर्नीचर के नीचे छिपा लेते हैं। ऐसे कुत्ते नर्वस दिखते हैं और वह आपसे दूरी बनाए रखने की कोशिश करते हैं। इन हालातों में आपको डॉगी से ज्यादा उम्मीदें नहीं रखनी चाहिए, बल्कि उन्हें खुद की लाइफ में कंफर्ट होने के लिए समय देना चाहिए। हम सभी अपने डॉगी को प्यार से नहलाना चाहते हैं। लेकिन ऐसे डॉगीज के साथ आपको तब तक इंतजार करना चाहिए, जब तक वह आप पर भरोसा न करने लगे। इसके बाद वह धीरे-धीरे आपका आदी हो जाएगा। आप कभी भी जल्दबाजी में अपनी पसंद के हिसाब से डॉग से काम कराने के लिए दबाव न डालें।


अच्छी बॉन्डिंग भी अहम
डॉगी को अपने हाथ से खाना खिलाना, वॉक पर ले जाना और बालों पर ब्रशिंग करने से आप दोनों के बीच अच्छी बॉन्डिंग बन जाती है। इसके अलावा उसे ज्यादा से ज्यादा लोगों और दूसरे डॉगीज से मिलाना चाहिए। इससे उसकी पर्सनैलिटी में सुधार लाने में मदद मिलती है।

प्यार और अनुशासन के बीच बैलेंस
ये महत्वपूर्ण है कि ऐसे डॉगी को शुरुआती दिनों में आप घर में अकेला छोड़कर न जाएं, क्योंकि घर के नए वातावरण में वह खुद को असहज महसूस कर सकते हैं। एक बार डॉगी आप पर विश्वास करने लगे, तो वह अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए आपके आगे-पीछे घूमने लगेगा। ऐसे में जब आप उसके पास नहीं होंगे, तब हो सकता है कि वह नर्वस भी होने लगे। आपको डॉगी को धैर्य के साथ स्वतंत्र रूप से प्रशिक्षित करना होगा। आपको डॉग का व्यवहार सुधारने के लिए प्यार और अनुशासन के बीच बैलेंस बनाने की जरूरत है।

Post a Comment
By clicking on Register, you accept T&C
X
X